Best Top 10+ Motivational shayari 2019| Life changing motivational shayari

Share:

 


क्यों ना सजा मिलती हमे मोहब्बत मैं आखिर 
हमने भी बहुत दिल तोड़े थे उस शख्स की खातिर 
दूर बैठे रहोगे पास न आओगे कभी ऐसे रूठोगे तो 
जान ले जाओगे कभी शोले बन जायेगे सभी फूल 
मेरे आँचल के तुम जो मोहब्बत की घटा बनके न 
छाओगे कभी 


जिंदगी मैं ना जाने कौनसी बात आखरी होगी 
ना जाने कौनसी रात आखरी होगी मिलते जुलते 
बातें करते रहो यार एक दूसरे से ना जाने कौनसी 
मुलाक़ात आखरी होगी 



कौन किस से चाहकर दूर होता है 
हर कोई अपने हालातों से मजबूर होता है 
हम तो बस इतना जानते है 
हर रिश्ता मोती ओरहर दोस्त कोहिनूर होता है



पानी से तस्वीर कहाँ बनती है 
ख्वाब से तकदीर कहाँ बनती है
किसी भी रिश्ते को सच्चे दिल से 
निभाओ ये जिंदगी फिर वापस 
कहाँ मिलती है


जीना चाहा तो जिंदगी से दूर थे हम 
मरना चाहा तो जीने को मजबूर थे हम 
सर झुका कर कबूल कर ली हर सजा 
बस कसूर इतना था कि  बेक़सूर थे हम 


पहली मोहब्बत के लिए दिल जिसे चुनता है 
वो अपना हो न हो दिल पर राज उसी का रहता है 
जिंदगी यूँ  ही बहुत कम है मोहब्बत के लिए
फिर एक दूसरे से रूठना वक्त गँवाने की 
जरूरत क्या है 


ये न सोचा कभी हमने की हमने दोस्तों से 
लिए क्या है हमने तो खुद से पूंछा सदा की 
हमने उनको दिया क्या है 


दिल मैं प्यार का आगाज हुआ करता है 
बाते करने का अंदाज हुआ करता है 
जब तक दिल को ठोकर नहीं लगती 
सबको अपने प्यार पर नाज हुआ करता है 


न जिद है कोई गुरूर है हमे बस तुम्हे पाने 
का सुरूर है हमे इश्क गुनाह है तो गलती की 
हमने सजा जो भी हो मंजूर है हमे 


दुआओ पे हमारे एतबार रखना दिल मैं 
अपने ना कोई सवाल रखना देना चाहते 
हो अगर खुशियां हमे तो बस तुम खुस रखना 
और अपना ख्याल रखना 


इतना किसी को सताया नहीं करते हद से 
ज्यादा किसी को तड़पाया नहीं करते जिनकी 
सांसें चलती हो आपको लफ़्हज़ों से उन्हें अपनी 
आवाज के लिए तरसाया नहीं करते 


जिंदगी से बस यही एक गिला है 
ख़ुशी के बाद न जाने क्यों गम मिला है 
हमने तो की थी वफ़ा उनसे जी भर के 
पर नहीं जानते थे की वफ़ा के बदले 
बेवफाई ही सिला है 


एक बार रोये तो रोते चले गए 
दामन अश्कों से भिगोते चले गए 
जब जाम मिला बेवफाई का तो 
खुद को पैमाने मैं डुबोते चले गए 


जिंदगी देने वाले मरता छोड़ गये    
अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गये  
जब पड़ी जरूरत हमे अपने हमसफ़र की 
वो जो साथ चलने वाले रास्ता मोड़ गये  


मेरी मौत के सबब आप बने इस दिल 
के रब आप बने पहले मिसाल सेट थे 
वफ़ा की जाने यूँ बेवफा कब आप बने 


जानते थे की नहीं हो सकते कभी तुम हमारे 
फिर भी खुद से तु म्हे मांगने की आदत से हो गयी 
पैमाने वफ़ा क्या है हमे क्या मालूम की बेवफाओ 
से दिल लगाने की आदत सी हो गयी 


बखरे हुए दिल ने भी उसके लिए फ़रियाद मांगी 
मेरी सांसों ने भी हर पल उसकी  मांगी 
जाने क्या मोहब्बत थी उस बेवफा मैं की मैंने 
आखिरी फ़रियाद मैं भी उनकी वफ़ा मांगी 


वफ़ा पर मुझको सब कुछ लुटाना था 
लेकिन वफ़ा लौट गयी लुटाने से पहले 
चिराग तमत्रा का जला तो दिया था 
मगर बुझ गया जगमगाने से पहले 


साड़ी दुनिया को भुलाने का मन करता है 
खुद से खुद को मिटाने का मन करता है 
ख्वाहिशें दिल की कहीं पागल ना कर दे 
मुझे सबको छोड़ इस दुनिया से दूर 
कहीं जाने को मन करता है 


अच्छे दोस्तों की तलाश तो कमजोर 
दिल वालों को होती है बड़े दिल वाले 
तो हर दोस्त को अच्छा बना लेते है 


बदनाम करते है लोग मुझे जिसके 
नाम से कसम खुदा की जी भर के 
कभी उसको देखा भी नहीं 


माना कि  आज उसका मुझपे कोई 
वास्ता नहीं रहा मगर आज भी उसके 
हिस्से का वक्त तन्हा गुजरता है 



फिर उसके जाते ही दिल सुनसान भला
आबाद शहर वीरान हो कर रह गया 
मेरे दिल का दर्द किसने देखा है 
मुझे बस खड़ा ने तड़पते देखा है 
हम तन्हाई मैं बैठे रोते है लोगों ने 
हमे महफ़िल मैं हंसते देखा है 


कई बार बिना गलती के भी गलती 
मान लेते है हम क्युकि डर लगता है 
कहीं कोई अपना हमसे रूठ न जाये 


मैंने जिंदगी से पूछा सबको इतना 
दर्द क्यों देती हो जिंदगी ने हसकर 
जवाब दिया मैं तो सबको ख़ुशी ही  
देती हूँ पर एक की ख़ुशी दूसरे का 
दर्द बन जाती है 

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();