Top love Hindi Shayari लव हिंदी शायरी Best shayari | shayari in hindi

Share:



सोचा था तड़पायेगे  हम उन्हें 
किसी और का नाम लेके जलायेगे 
उन्हें फिर सोचा मैंने उन्हें तड़पके 
दर्द मुझको ही होगा तो फिर भला 
किस तरह सताए हम उन्हें 


दिन हुआ है तो रात भी होगी 
मत हो उदास उससे कभी बात 
भी होगी वो प्यार है ही इतना
प्यारा जिनगी रही तो मुलाकात 
              भी होगी  


वो बिछड़ के हमसे यूँ  दूरियां कर गई 
न जाने क्यों  ये मोहब्बत अधूरी कर गई 
अब हमें तन्हाइयां चुभती है तो क्या हुआ 
कम से कम उसकी सारि तांत्रिकाय  तो पूरी
                       हो गई




अब तो वफ़ा करने से मुकर जाता है दिल 
अब तो इश्क के नाम से डर जाता है दिल 
अब किसी दिलासे की जरूरत नहीं है 
क्योकि अब हर दिलासे  से भर गया है दिल 


होल होल कोई याद आया करता है 
कोई मेरी हर सांसो को महकाया करता है 
उस अजनबी का हर पल शुक्रिया अदा करते है 
जो इस नाचीज को मोहब्बत सिखाया करता है 


अब तेरे बिना जिंदगी गुजारना मुमकिन नहीं है 
अब और किसी को इस दिल मैं बसना आसान नहीं है 
 हम तो तेरे पास कब के चले आये होते सब कुछ छोड़ 
कर लेकिन तूने कभी हमे दिल से पुकारा ही नहीं है 


मंजिल भी उसकी थी रास्ता भी उसका था 
एक मैं ही अकेला था बाकि सारा काफिल  
भी उसका था एक साथ चलने की सोच भी 
उसकी थी और बाद मैं रास्ता बदलने का 
           फैसला भी उसी का था   



अब मोहब्बत नहीं रही इस ज़माने मैं 
क्योकि लोग अब मोहब्बत नहीं मजाक 
किया करते है इस ज़माने मैं 


चिंगारी का खौफ न दिया करो हमें 
हम अपने दिल मैं दरिया बहाय बैठे है 
अरे हम तो कब का जल गय होते इस 
आग मैं लेकिन हमतो खुद को आंसुओ 
             मैं भिगोये बैठे है


जिनगी मैं शिकवा नहीं उसने गम का 
आदी  बना दिया गिला तो उनसे है 
जिन्होंने रोशनी की उम्मीद दिखा के 
दिया ही बुझा दिया 


दिल का क्या है तेरी यादों के सहारे जी लेगा 
हैरान तो आँखें है तड़पती है तेरे दीदार को 


हो ही नहीं सकता की ये इश्क का कमाल 
न हो सुबह उठकर आये वो जब उनकी आखे 
                   लाल न हो 
  

चिराग से न पूछो बाकि तेल कितना है 
सांसो से न पूछो बाकि खेल कितना है 
पूवो उस कफ़न मैं लिपटे मुर्दे से 
जिंदगी मैं गम और कफ़न  चैन कितना है 



क्यूँ नहीं महसूस होती उसे मेरी तकलीफ 
जो कहते थे बहुत अच्छे  से जानते है तुझे 
जो वहले थे हमारे लिए बुझ रहे है वो सरे दिए 
कुछ अंधेरों की थी साजिशे कुछ उजालों ने धोखे दिए 



दोस्तों की कमी को पहचानते है हम 
दुनियां के गमों को भी है जानते हम 
आप जैसे दोस्तों के ही सहारे आज भी 
हसकर जीना जानते है 


जरूरी तो नहीं जो ख़ुशी देउसी से प्यार 
हो क्योकि सच्ची मोहब्बत अक्सर दिल 
तोड़ने वाले से होती है  


अपने गम की तू नुमाइस न कर 
अपने नसीब की यु आजमाइस न कर
जो तेरा है वो खुद तेरे दर पे चल के आएगा 
रोज उसे पाने की ख्वाहिस न कर  



No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();